share market me invest kaise kare – निवेश के लिए इन 6 रणनीतियों को अपनाना होगा फायदेमंद। 

share market me invest kaise kare:- शेयर बाजार में जितनी तेजी से गिरावट आई, उसके बाद उससे ज्यादा तेजी से शेयरों की कीमत में सुधार आया। इससे यह बात शिद्ध होती है की सार्ट टर्म की भारी गिरावट से इक्विटी को कोई फर्क नहीं पड़ता,लंम्बे समय में इसका प्रदर्शन बेहतर ही रहता है। शेयर बाजार एकतरफा नहीं होता है यहाँ  कीमतें ऊपर और नीचे दोनों तरफ जाती है यह मौजूदा और नए निवेशकों के लिए एक सबक है। बाजार में उतार चढ़ाव जारी रह सकता है यह आप पर निर्भर करता है की अपने लॉन्गटर्म के लक्ष्यों के लिए मौकों का कैसे सबसे अच्छा उपयोग करते है। 

बिना सोचे विचारे निवेश करने से अच्छा है योजना बना कर निवेश करें इससे काफी मदद मिलती है। यदि आपने अभी तक शेयरों में निवेश नहीं किया है तो इस यात्रा को शुरू करने का यही समय हो सकता है। 

share market me invest kaise kare

 

 निवेश के लिए इन 6 रणनीतियों को अपनाना होगा फायदेमंद। 

१. बाजार कब किस स्तर पर पहुंचेगा, इसका अंदाजा लगाने और उस हिसाब से निवेश करने के फैसले से बचें। यदि आप लम्बी अवधि के लक्ष्यों के लिए निवेश के रहे है, तो  करेक्शन में म्यूचल फंड की और यूनिट खरीदें ताकि आपके निवेश को होल्ड करने की लागत की एवरेजिंग हो सके। म्यूचल फंड में SIP शुरू करें। जब भी आपके पास एकमुश्त राशि उपलब्ध हो उसे मौजूदा फोलियो में डालें। बाजार में गिरावट आने पर इस मौके का उपयोग काम कीमत पर मिल रहे मौजूदा कारोबारी संभावनाओं वाले शेयर खरीदने में करें। 

share market me invest kaise kare

२. निवेश को लार्ज -मिड -स्मॉल कैप म्यूचल फंड स्कीम में उचित डायवर्सिफाई कर कुछ इक्विटी  म्यूचल फंड में SIP शुरू करें। जब भी आपके पास एकमुश्त राशि उपलब्ध हो उसे मौजूदा फोलियो में डालें। बाजार में गिरावट आने पर इस मौके का उपयोग काम कीमत पर मिल रहे मौजूदा कारोबारी संभावनाओं वाले शेयर खरीदने में करें।

३. अपनी निवेश की राशि को इक्विटी, डेट, और गोल्ड में बाट कर अपने एलोकेशन को मेंटेन रखें। किसी एक एसेट क्लास का स्कीम के शार्ट टर्म के प्रदर्शन के आधार पर उसमे जरूरत से ज्यादा निवेश न करें। 

4. मौजूदा SIP के निवेशक अपना निवेश जारी रख सकते है  शेयर बाजार में उतार चढ़ाव आने कारण NAV गिरती है, वे लम्बी अवधि में बड़ा कार्पस बनाने के लिए उसी फोलियो में नए फंड्स जोड़ सकते है। 

५. यदि आपके पास एक मुस्त राशि है तो आप अपने निवेश को 2 – 4 चरणों में बात कर निवेश शुरू कर सकते है। या फिर आप लिक्विड फंड में निवेश कर के सिस्टेमेटिक ट्रांसफर विकल्प का चुनाव कर सकते है इसमें फंड को नियमित अंतराल पर इक्विटी में निवेश करने के लिए कह सकते है। . 

६. लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में और अच्छा प्रदर्शन करने वाले लार्ज और मिड कैप फंडों में बने रहन चाहिए। स्माल कैप फंड को वो लोग चुन सकते है जिनकी जोखिम छमता अधिक है। कुछ हिस्सा थीमेटिक्स या सेक्टर फंड्स जैसे, फार्म फंड और आईटी फंड्स में निवेश किया जा सकता है। 

शेयर मार्केट से करोड़पति कैसे बनें?

नो क्लेम बोनस (एनसीबी) क्या है?

=> बीमा सलाह  पर्याप्त  हेल्थ और लाइफ  इंश्योरेंस कवर जरुर लें। 

निवेश शुरू करने से पहले अपने और परिवार के हर सदस्य के लिए पर्याप्त हेल्थ कवर लें। छोटे और युवा, परिवार फैमेली फ्लोटर प्लान चुन सकते है जहाँ तक जीवन बीमा की बात है सालाना आमदनी के 15 गुना के बराबर राशि का टर्म इंश्योरेंस प्लान लें। हर 5 साल में अपनी वित्तीय जिम्मेदारियों को ध्यान में रखते हुए इसकी समीक्छा करते रहें। 40 वर्ष के आसपास के व्यक्तियों के लिए क्रिटिकल इलनेश प्लान का चयन करना भी जरूरी है। 

मुझे उम्मीद है आपके लिए यह जानकारी उपयोगी साबित होगी। 

यह भी पढ़ें :- 

पैसा कहां इन्वेस्ट करे 

बचत करने के उपाय 

मनी मैनेजमेंट टिप्स हिंदी 

कैपिटल गेन टैक्स क्या है? और इसमें छूट कैसे पाएं?

Leave a Comment

Your email address will not be published.